Monthly Archives: March 2011

लोक स्वीकृत गंगा नीती….

साभार- तरुण भारत संघ

http://www.tarunbharatsangh.org/index.html

जलस्रोतांवर अतिक्रमण….

‘हातचे सोडायचे आणि पळत्याच्या मागे धावायचे’ ही जणू नियोजनाची रीतच बनली आहे. नैसर्गिक साधनसंपत्ती, त्यातही राज्यातील जलस्रोतांच्या बाबतीत हे तर जळजळीत वास्तव बनले आहे. लोकसंख्येतील वाढ, विकासाची गती व नागरीकरण अशा कारणांमुळे पाण्याच्या नव्या गरजा निर्माण झाल्या आहेत. त्या भागविण्यासाठी धरणे व आधुनिक पद्धतीने जलसाठे निर्माण करण्याची आवश्यकता आहेच. अशी धरणे व मोठय़ा प्रकल्पांकडे लक्षही दिले जात आहे. अर्थात, त्यांची कार्यक्षमता व गैरव्यवहारांमुळे खर्च-फायदे यांचे गुणोत्तर हाही वेगळय़ा चर्चेचा विषय आहे. निदान अशा प्रकल्पांचा विचार तरी होत आहे. पण हे होत असतानाच आपल्याकडे वर्षांनुवर्षे असलेल्या जलस्रोतांकडे अक्षम्य दुर्लक्ष होत आहे. या दुर्लक्षामुळे ते केवळ निरुपयोगी ठरले असते तर एकवेळ ठीक होते. पण तेवढय़ाने भागलेले नाही, तर हे जलस्रोत नष्ट करण्यात आल्याने किंवा त्यांच्यावर अतिक्रमण झाल्याने त्यांनी नवनव्या समस्या वाढून ठेवल्या आहेत. त्याच्या रूपाने राज्यातील पर्यावरणाच्या मूलभूत गोष्टींमध्ये या आणखी एका गंभीर समस्येची भर पडली आहे.
गावोगावची नैसर्गिक तळी, तलाव, पाणथळी, खाजण-दलदलीच्या जागा, ओढे-नाले यांसारखे नैसर्गिक प्रवाह अशा सर्वच प्रकारच्या जलस्रोतांवर सध्या वाईट वेळ आली आहे. त्यापैकी काहींभोवती अतिक्रमणाचा विळखा घट्ट होत आहे, तर त्यापैकी लक्षणीय संख्येने या विळख्याने गिळूनही टाकली आहेत. पुणे-मुंबईसारख्या मोठय़ा शहरांप्रमाणेच अमरावती जिल्हय़ातील वरुड किंवा भंडारा जिल्हय़ातील लहानशा गावांमधील तलावांवरही हीच वेळ आलेली आहे. ही तळी-प्रवाहांचे महत्त्व जलस्रोत म्हणून आहेच, पण त्याही पलीकडे त्याचे इतरही अनेक उपयोग आहेत. पावसाळय़ाच्या वेळी पाणी सामावून पुराची तीव्रता कमी करणे, भूजलाच्या पुनर्भरणासाठी उपयुक्त माध्यम म्हणून भूमिका बजावणे, परिसरातील जिवांसाठी जीवन ठरणे आणि जैवविविधता टिकविण्यास हातभार लावणे अशा अनेक गोष्टींशी या जलस्रोतांचा घनिष्ट संबंध येतो. त्यामुळे या जलस्रोतांची गळचेपी केवळ त्यांच्यापुरती मर्यादित न राहता व्यापक समस्येला आमंत्रण देणारी ठरते. तेच चित्र महाराष्ट्रात दिसत आहे-पावसाळय़ात पाणी साचल्यामुळे-पुरामुळे होणाऱ्या नुकसानीच्या रूपाने, भूजलाची पातळी खाली जाण्याच्या रूपाने आणि जैववैविध्य नष्ट होण्याच्या रूपानेसुद्धा! विशेष म्हणजे प्रत्येक नागरिकाला यापैकी कोणत्या ना कोणत्या समस्येची झळ बसलेलीच आहे. या सर्व समस्यांचे उत्तर या जलस्रोतांचे स्वास्थ्य कसे राखले जाते, यातच दडलेले आहे.
राज्यातील अशा नैसर्गिक जलस्रोतांची सविस्तर सद्य:स्थिती मांडायची म्हटली तर ती या स्तंभाच्या शब्दमर्यादेत बसणार नाही. त्यामुळे काही प्रातिनिधिक उदाहरणांमधूनच त्याचा अंदाज घ्यावा लागेल. महानगरी मुंबईतसुद्धा दशकानुदशके सर्वच प्रकारचे जलस्रोत नष्ट करण्याची प्रक्रिया सुरूच आहे. सात बेटे जोडून मुंबापुरी निर्माण केल्याच्या जुन्या इतिहासात जायची गरज नाही. त्यानंतरच्या काळातसुद्धा येथील अनेक तलाव नष्ट झाले आहेत. धोबी तलाव, परळ टँकसारखे एकेकाळचे तलाव पन्नास-पाऊणशे वर्षांपूर्वीच संपले. पण अलीकडच्या काळातसुद्धा उपनगरांमध्ये हेच घडले आहे. कलिना-सांताक्रुझ परिसरातील तलाव असोत किंवा जोगेश्वरीमधील शांताराम तलावासारखे जलस्रोत, ते साधारणत: गेल्या दोन दशकांमध्ये बुजविण्यात आले. याशिवाय पाणथळी, दलदलीच्या जागा व खाडय़ासुद्धा मोठय़ा प्रमाणात बुजविण्यात आल्या आहेत. दोन-तीन वर्षांपूर्वी देशातील सात जलस्रोत ‘राष्ट्रीय तलाव’ म्हणून जाहीर करण्यात आले, त्यात मुंबईतील पवई तलावाचा समावेश आहे. पण हा राष्ट्रीय तलावसुद्धा अतिक्रमणांमधून सुटलेला नाही. आजूबाजूला वाढलेल्या वसाहती व संस्थांच्या सांडपाण्यामुळे प्रदूषण ही त्याची समस्या आहेच, पण त्यावरील अतिक्रमणही वाढले आहे. मुंबईतील नाले व ओढे कशा प्रकारे बुजले आहेत आणि त्यांचे रूपांतर ‘सबवे’ किंवा भूखंडात करण्यात आले हा तर स्वतंत्र विषय आहे. ठाणे जिल्हा हा तर तलावांचा म्हणूनच ओळखला जायचा, पण तेथील तलावांची अवस्थासुद्धा बरी नाही. याच जिल्हय़ातील पनवेलच्या पाणथळींची स्थिती अवस्था समजून घेतली की परिसराची काय अवस्था आहे याचा अंदाज येतो. या शहराला तलाव व खाजणांसारख्या पाणथळींचे सानिध्य आहे. पण आता या सर्व पाणथळी भर घालून बुजविण्यात आल्या आहेत. त्यावर टोलेजंग इमारती व कॉम्प्लेक्स उभी राहिली आहेत. प्रत्यक्ष गावातील बल्लाळेश्वर या भल्यामोठय़ा तलावाचे क्षेत्रसुद्धा आता निम्म्याने कमी झाले आहे. हे काम अजूनही सुरूच आहे. त्याला स्थानिक लोकप्रतिनिधींचा नुसता आशीर्वादच नाही, तर तेच त्याचे प्रमुख लाभार्थी बनले आहेत. या शहराच्या पूर्वेला माथेरानच्या टेकडय़ा आणि पश्चिमेला खाडी अशी भौगोलिक स्थिती आहे. त्यामुळे पावसाळ्यात मोठय़ा प्रमाणात येणारे पाणी या खाजणांमध्ये साचून राहिल्याने पुराची तीव्रता कमी असते. आता पाणी शोषून घेणाऱ्या या पाणथळीच नष्ट झाल्याने हे शहर प्रत्येक पावसाळ्यात आपत्तीच्या तोंडावरच बसल्यासारखे आहे.
राज्याच्या दुसऱ्या टोकाला विदर्भातील भंडारा जिल्हासुद्धा तलावांचा जिल्हा म्हणून ओळखला जातो. तेथील अनेक तलाव आता एकतर बुजविण्यात आले आहेत, नाहीतर गाळाने भरून गेले आहेत. अमरावती जिल्हय़ातील वरुडचे एक उदाहरण सर्वच भागांसाठी प्रातिनिधिक ठरणारे आहे. संत्र्यासाठी प्रसिद्ध असलेल्या या गावात तळय़ाची पाळी नावाचा परिसर आहे. तिथे काही दशकांपूर्वी मोठा तलाव होता. पण आता या गोष्टीवर सहजी विश्वास बसत नाही. कारण त्यात भर टाकून तो पूर्णपणे बुजविण्यात आला आहे. पण पावसाळय़ात त्या भागात पाणी साचून राहते, तेव्हा मात्र तिथे पूर्वी तलाव असल्याचे कळून चुकते. आता तर या बुजविलेल्या तलावातच मोठा बाजार उभारण्याचा प्रशासनाचाच प्रस्ताव आहे. आताच पाणी साचून राहणाऱ्या या भागाची पुढे किती बिकट अवस्था होईल, याची कल्पना निश्चितपणे करता येते. वरुडमधील तळय़ाच्या पाळीप्रमाणे जलस्रोत बुजविल्याची उदाहरणे राज्यातील बहुतेक मोठी गावे व शहरांमध्ये हमखास पाहायला मिळतात. राज्यातील असे बहुतेक जलस्रोत नष्ट होत आहेत, उरलेले प्रदूषित बनून आरोग्य-पर्यावरणाच्या समस्येत भर घालत आहेत. नव्या व्यवस्थेतसुद्धा हे तलाव महत्वाची भूमिका पार पाडू शकतात. पाणीव्यवस्थांच्या केंद्रीकरणामुळे वितरणात मोठय़ा प्रमाणात विषमता दिसते. हे स्थानिक जलस्रोतांची व्यवस्थित देखभाल-दुरुस्ती होत राहिली तर गावे व शहरांवरील पाण्याचा भार काही प्रमाणात का होईना हलका होईल. शिवाय तलावांसाठी म्हणून तरी आसपासचा परिसर प्रदूषणमुक्त ठेवण्याची शक्यता वाढेल.
अर्थात, त्यांचे व्यवस्थापन निश्चितच सोपे नाही. त्यासाठी पैसा, मनुष्यबळाचा योग्य वापर व व्यवस्थापन कौशल्याची आवश्यकता आहे. पण शाश्वत विकासासाठी ही आव्हाने पेलावीच लागतील. तरच हे जलस्रोत आपल्यासाठी जमेची बाजू ठरतील, अन्यथा पुढील काळातही महाराष्ट्रातील पर्यावरणाची प्रमुख समस्या बनून राहतील!

अभिजित घोरपडे

साभार- लोकसत्ता

http://www.loksatta.com/index.php?option=com_content&view=article&id=140033:2011-03-02-15-28-20&catid=96:2009-08-04-04-30-04&Itemid=108

आदिवासी महिलाओं ने बदली गांव की तस्‍वीर……

आदिवासी समुदाय के हौसले को तो हमेशा ही सराहा जाता रहा है. एक बार फिर से उन्होंने कुछ ऐसा कर दिखाया है, जो काबिले तारी़फ है. हम बात कर रहे हैं मिर्जापुर ज़िले की आदिवासी महिलाओं की. जी हां मिर्जापुर ज़िले के लालगंज क्षेत्र की आदिवासी महिलाओं ने अपनी मेहनत और लगन से इस गांव की तस्वीर बदल दी है. वर्षों से पानी की समस्या से जुझ रहीं यहां कि महिलाओं ने यहां तीन किलोमीटर लंबी नहर खोदकर गांव-घर और खेतों तक पानी पहुंचा दिया है.

जिस पानी को लाने के लिए गांव वालों ने रात दिन एक कर दिया उसके बर्बाद होने से गांव वालों को बेहद दुख हुआ. लेकिन इस समस्या का भी जल्द ही उन्होंने कारगर हल निकाल लिया. पहले  तो पानी को उन्होंने सूखे पड़े सभी कुओं में डाला. इसके बाद सारे बावड़ियों में पानी डाला गया. तालाबों में पानी भर जाने से जानवरों को भी पीने का पानी मिलने लगा. अब कृषि कार्य भी कोई मुश्किल नहीं था, अब ये लोग कृषि पर पर्याप्त ध्यान देने लगे. जिससे उनके खेतों में ही नहीं बल्कि जीवन में भी ख़ुशहाली लौट आई.

जंगलों में बेकार बह रहे पानी की धारा का रूख़ बदलने से यहां न केवल पेयजल की समस्या से निजात मिली है बल्कि इला़के का जल स्तर भी बढ़ा है. भू जलस्तर ऊपर बढ़ने से बंजर पड़ी ज़मीनों में जान लौट आई है और इससे खेतों में फसलें लहलहाने लगी है. यहां कि महिलाओं के जी-तो़ड मेहनत से यह संभव हुआ है. लालगंज ब्लॉक मिर्जापुर ज़िला मुख्यालय 30 किलोमीटर की दूरी पर विंध्याचल की तलहटी में बसा है. यहां पर सालों भर जलस्तर सामान्य से नीचे ही रहता है. सूखा प्रभावित क्षेत्र होने की वजह से हर साल यहां गर्मी के मौसम में लोगों का जीना मुश्किल हो जाता है. लोग पानी के बूंद के लिए भी तरस जाते हैं. वर्षों से पानी की समस्या से जूझ रहें आदिवासियों ने इस समस्या का हल ढूंढ निकाला. मंजिल कठिन थी पर बुलंद हौसले ने उन्हें कामयाबी दिलाई. यहां कि महिलाओं ने पहाड़ की तलहटी से निकल रहे पानी की धारा को गांव तक पहुंचाने में सफलता पाई. तीन किलोमीटर लंबी नहर खोदकर जंगल में बेकार बह रहे पानी की धारा का रूख़ गांव की ओर मोड़ दिया. नहर के ज़रिए खेतों और गांव को पानी मिलने से पानी की समस्या का समाधान हो गया. यहां अब रोज़ाना की ज़रूरतों के साथ ही खेती के लिए भी पानी की कोई कमी नहीं है. यहां पानी के आ जाने से लोगों का जीवन ख़ुशहाल हो गया है. पहले यहां के लोग मेहनत मज़दूरी करके जीवन यापन करते थे, वहीं अब अपनी फसल उगाने लगे हैं. इस इलाक़े में हरियाली और ख़ुशहाली लौटाने का श्रेय यहां की मेहनतकश महिलाओं को जाता है. जिन्होंने पिछले तीन साल से जीतो़ड मेहनत कर सफलता प्राप्त की. इन महिलाओं को लोग सम्मान भरी निगाहों से देखते हैं. बंजर पड़ी ज़मीनों को देखकर हमेशा उनके अंदर इन ज़मीनों में फसल उगाने की इच्छा होती थी. पर प्रश्न यह था कि कैसे? पानी की समस्या से अधिकतर यहां की महिलाओं को ही दो-चार होना प़डता था. ऐसे में इस समस्या का समाधान भी यहां कि महिलाओं ने ही निकाला. महिलाओं ने पुरुषों का इसके प्रति रवैय्या प्रतिकूल होने की वजह से ख़ुद आगे आई. महिलाएं पहाड़ की तलहटी से निकलने वाली पानी को देखती तो सोचती कि कैसे यह पानी उनके काम आ सकता है. फिर उन्होंने सोचा क्यों न इस पानी का रुख़ गांव की तऱफ मोड़ दिया जाए. हालांकि यह एक चुनौती भरा काम था, पर उन्होंने इस चुनौती को स्वीकार किया. कहते हैं एकता में बल होता है. इसे सच कर दिखाया महिलाओं ने. पहले तो गांव की महिलाओं ने एक संगठन बनाया. नहर खोदने वाली महिलाओं की इस संगठन का राजकली नाम की एक महिला ने नेतृत्व किया. बैठक कर सभी महिलाओं ने गांव की समस्या और उसके समाधान के बारे में आम राय बनाई. योजना के अनुसार मेहनत मज़दूरी के बाद जो भी व़क्त मिलता था महिलाएं नहर खुदाई के काम में लग जाती थी. यह कार्य एक दिन में संभव नहीं था, पर कहते है कि परिश्रम का फल मीठा होता, उन्हें भी उनके जी-तो़ड मेहनत का फल मिला. पहा़ड की खुदाई के दौरान किसी भी सदस्य पर दबाव नहीं होता था. चट्टान और पत्थर तोड़कर नहर निकालने का यह सिलसिला निरंतर तीन वर्षों तक चलता रहा. फिर वह दिन आ ही गया जब जलधारा जंगल छोड़कर गांव की ओर बहने लगी. लोगों के सपने सच हुए गांव में नहर के प्रवेश करते हीं लोगों का उत्साह काफी ब़ढ गया. पहले यहां के मर्द महिलाओं के काम में हाथ नहीं बंटाते थे, वहीं महिलाओं के जज़्बे को देखकर उनमें काफी परिवर्तन आया. उन्होंने महिलाओं के कार्यों में हाथ बंटाना शुरू कर दिया. मर्दों का साथ मिलने से महिलाएं भी काफी उत्साहित हुईं परिणाम यह हुआ कि नहर के खुदाई का काम जल्द ही पूरा हो गया. महिलाओं के इस कोशिश से गांव और खेतों तक पानी पहुंच तो गया लेकिन योजनाबद्ध तरीक़े से कार्यों के न होने से पानी बेकार जाने लगा. जिस पानी को लाने के लिए गांव वालों ने रात दिन एक कर दिया उसके बर्बाद होने से गांव वालों को बेहद दुख हुआ. लेकिन इस समस्या का भी जल्द ही उन्होंने कारगर हल निकाल लिया. पहले  तो पानी को उन्होंने सूखे पड़े सभी कुओं में डाला. इसके बाद सारे बावड़ियों में पानी डाला गया. तालाबों में पानी भर जाने से जानवरों को भी पीने का पानी मिलने लगा. अब कृषि कार्य भी कोई मुश्किल नहीं था, अब ये लोग कृषि पर पर्याप्त ध्यान देने लगे. जिससे उनके खेतों में ही नहीं बल्कि जीवन में भी ख़ुशहाली लौट आई. इंसान ही नहीं जानवरों के जीवन में भी बहार आ गई. अब जानवरों को भी पानी और चारे की कोई समस्या नहीं रही. ज़मीन में नमी आ जाने से घास उगने लगी. इससे मवेशियों को भरपेट चारा भी मिलने लगा. इससे यहां पशुपालन भी आरंभ हो गया. खेतों में सिंचाई के लिए उन्होंने नया तरीक़ा अपनाया. लोग विवेकानुसार सिंचाई के लिए आवश्यकतानुसार फाटक खोलते थे और सिंचाई होते ही फाटक को बंद कर दिया जाता था. इस तरह जल की बर्बादी पर भी काबू पा लिया गया इन महिलाओं के प्रयासों के बदौलत ही तीन किलोमीटर लंबी नहर की खुदाई के बाद गांव तक पानी पहुंचा. महिलाओं की इस कामयाबी से ख़ुश होकर ज़िला प्रशासन ने भी भरपूर मदद का आश्वासन दिया.

साभार- चौथी दुनिया

http://www.chauthiduniya.com/2011/02/aadivasi-mahilaon-ne-badali-gav-ki-tasveer.html

आज भी खरे है तालाब……..

आज तालाबों से कट गया समाज, उसे चलाने वाला प्रशासन तालाब की सफाई और साद निकालने का काम एक समस्या की तरह देखता है और वह इस समस्या को हल करने के बदले तरह-तरह के बहाने खोजता है। उसके नए हिसाब से यह काम खर्चीला है। कई कलेक्टरों ने समय-समय पर अपने क्षेत्रा में तालाबों से मिट्टी नहीं निकाल पाने का एक बड़ा कारण यही बताया है कि इसका खर्च इतना ज्यादा है कि उससे तो नया तालाब बनाना सस्ता पड़ेगा। पुराने तालाब साफ नहीं करवाए गए और नए तो कभी बने ही नहीं। साद तालाबों में नही, नए समाज के माथे में भर गई है।
तालाब में पानी आता है, पानी जाता है। इस आवक-जावक का पूरे तालाब पर असर पड़ता है। वर्षा की तेज बूंदों से आगौर की मिट्टी धुलती है तो आगर में मिट्टी घुलती है। पाल की मिट्टी कटती है तो आगर में मिट्टी भरती है। तालाब के स्वरूप के बिगड़ने का यह खेल नियमित चलता रहता है। इसलिए तालाब बनाने वाले लोग, तालाब बनाने वाला समाज तालाब के स्वरूप को बिगड़ने से बचाने का खेल भी उतने ही नियमपूर्वक खेलता रहा हैं। जो तालाब देखते ही देखते पिछले पचास-सौ बरस में नष्ट कर दिए गए हैं, उन तालाबों ने नियम से खेले गए खेलों के कारण ही कुछ सैकड़ों बरसों तक समाज का खेल ठीक से चलाया था। पहली बार पानी भरा नहीं कि तालाब की रखवाली का, रख-रखाव का काम शुरू हो जाता था। यह आसान नहीं था। पर समाज को देश के इस कोने से उस कोने तक हजारों तालबों को ठीक-ठाक बनाए रखना था, इसलिए उसने इस कठिन काम को हर जगह इतना व्यवस्थित बना लिया था कि यह सब बिलकुल सहज ढंग से होता रहता था। आगौर में कदम रखा नहीं कि रख-रखाव का पहला काम देखने को मिल जाएगा। देश के कई क्षेत्रों में तालाब का आगौर प्रारंभ होते ही उसकी सूचना देने के लिए पत्थर के सुंदर स्तंभ लगे मिलते हैं। स्तंभ को देखकर समझ लें कि अब आप तालाब के आगौर में खड़े हैं, यहीं से पानी तालाब में भरेगा। इसलिए इस जगह को साफ-सुथरा रखना है। जूते आदि पहन कर आगौर में नहीं आना है, दिशा मैदान आदि की बात दूर, यहां थूकना तक मना रहा है। ‘जूते पहन कर आना मना है’, ‘थूकना मना है’ जैसे बोर्ड नहीं ठोंके जाते थे पर सभी लोग बस स्तंभ देखकर इन बातों का पूरा-पूरा ध्यान रखते थे। आगर के पानी की साफ-सफाई और शु(ता बनाए रखने का काम भी पहले दिन से ही शुरू हो जाता था। नए बने तालाब में जिस दिन पानी भरता, उस दिन समारोह के साथ उसमें जीव-जंतु लाकर छोड़े जाते थे। कहीं-कहीं जीवित प्राणियों के साथ सामथ्र्य के अनुसार चांदी या सोने तक के जीव-जन्तु विसर्जित किए जाते थे। छत्तीसगढ़ के रायपुर शहर में अभी कोई पचास-पचपन बरस पहले तक तालाब में सोने की नथ पहनाकर कछुए छोड़े गए थे।
पहले वर्ष में कुछ विशेष प्रकार की वनस्पति भी डाली जाती थी। अलग-अलग क्षेत्रा में इनका प्रकार बदलता था पर काम एक ही था- पानी को साफ रखना। मध्य प्रदेश में यह गदिया या चीला थी तो राजस्थान में कुमुदिनी, निर्मली या चाक्षुष। चाक्षुष से ही चाकसू शब्द बना है। कोई एक ऐसा दौर आया होगा कि तालाब के पानी की साफ-सफाई के लिए चाकसू पौधे का चलन खूब बढ़ गया होगा। आज के जयपुर के पास एक बड़े कस्बे का नाम चाकसू है। यह नामकरण शायद चाकसू पौधे के प्रति कृतज्ञता जताने के लिए किया गया हो। पाल पर पीपल, बरगद और गूलर के पेड़ लगाए जाते रहे हैं।
तालाब और इन पेड़ों के बीच उम्र को लेकर हमेशा होड़-सी दिखती थी। कौन ज्यादा टिकता है-पेड़ या तालाब? लेकिन यह प्रश्न प्रायः अनुत्तरित ही रहा है। दोनों को एक-दूसरे का लंबा संग इतना भाया है कि उपेक्षा के इस ताजे दौर में जो भी पहले गया, दूसरा शोक में उसके पीछे-पीछे चला गया है। पेड़ कटे हैं तो तालाब भी कुछ समय में सूखकर पट गया है और यदि पहले तालाब नष्ट हुआ है तो पेड़ भी बहुत दिन नहीं टिक पाए हैं। तालाबों पर आम भी खूब लगाया जाता रहा है, पर यह पाल पर कम, पाल के नीचे की जमीन में ज्यादा मिलता है। छत्तीसगढ़ क्षेत्रा में बहुत से तालाबों में शीतला माता का वास माना गया है और इसलिए ऐसे तालबों की पाल पर नीम के पेड़ जरूर लगाए जाते रहे हैं। बिना पेड़ की पाल की तुलना बिना मूर्ति के मंदिर से भी की गई है। बिहार और उत्तर प्रदेश के अनेक भागों में पाल पर अरहर के पेड़ भी लगाए जाते थे। इन्हीं इलाकों में नए बने तालाब की पाल पर कुछ समय तक सरसों की खली का धुआं किया जाता था ताकि नई पाल में चूहे आदि बिल बनाकर उसे कमजोर न कर दें। ये सब काम ऐसे हैं, जो तालाब बनने पर एक बार करने पड़ते हैं, या बहुत जरूरी हो गया तो एकाध बार और। लेकिन तालाब में हर वर्ष मिट्टी जमा होती है। इसलिए उसे हर वर्ष निकालते रहने का प्रबंध सुंदर नियमों में बांध कर रखा गया था। कहीं साद निकालने के कठिन श्रम को एक उत्सव, त्यौहार में बदल कर आनंद का अवसर बनाया गया था तो कहीं उसके लिए इतनी ठीक व्यवस्था कर दी गई कि जिस तरह वह चुपचाप तालाब के तल में आकर बैठती थी, उसी तरह चुपचाप उसे बाहर निकाल कर पाल पर जमा दिया जाता था। साद निकालने का समय अलग-अलग क्षेत्रों में मौसम को देखकर तय किया जाता रहा है। उस समय तालाब में पानी सबसे कम रहना चाहिए। गोवा और पश्चिम घाट के तटवर्ती क्षेत्रों में यह काम दीपावली के तुरंत बाद किया जाता है। उत्तर के बहुत बड़े भाग में नव वर्ष यानी चैत्रा से ठीक पहले, तो छत्तीसगढ़, उड़ीसा, बंगाल, बिहार और दक्षिण में बरसात आने से पहले खेत तैयार करते समय। आज तालाबों से कट गया समाज, उसे चलाने वाला प्रशासन तालाब की सफाई और साद निकालने का काम एक समस्या की तरह देखता है और वह इस समस्या को हल करने के बदले तरह-तरह के बहाने खोजता है। उसके नए हिसाब से यह काम खर्चीला है। कई कलेक्टरों ने समय-समय पर अपने क्षेत्रा में तालाबों से मिट्टी नहीं निकाल पाने का एक बड़ा कारण यही बताया है कि इसका खर्च इतना ज्यादा है कि उससे तो नया तालाब बनाना सस्ता पड़ेगा। पुराने तालाब साफ नहीं करवाए गए और नए तो कभी बने ही नहीं। साद तालाबों में नही, नए समाज के माथे में भर गई है। तब समाज का माथा साफ था। उसने साद को समस्या की तरह नहीं बल्कि तालाब के प्रसाद की तरह ग्रहण किया था। प्रसाद को ग्रहण करने के पात्रा थे किसान, कुम्हार और गृहस्थ। इस प्रसाद को लेने वाले किसान प्रति गाड़ी के हिसाब से मिट्टी काटते, अपनी गाड़ी भरते और इसे खेतों में पफैला कर उनका उपजाउफपन बनाए रखते। इस प्रसाद के बदले वे प्रति गाड़ी के हिसाब से कुछ नकद या पफसल का कुछ अंश ग्राम कोष में जमा करते थे। पिफर इस राशि से तालाबों की मरम्मत का काम होता था।
आज भी छत्तीसगढ़ में लद्दी निकालने का काम मुख्यतः किसान परिवार ही करते हैं। दूर-दूर तक साबुन पहुंच जाने के बाद भी कई घरों में लद्दी से सिर धोने और नहाने का चलन जारी है। बिहार में यह काम उड़ाही कहलाता है। उड़ाही समाज की सेवा है, श्रमदान है। गांव के हर घर से काम कर सकने वाले तालाब पर एकत्रा होते थे। हर घर दो से पांच मन मिट्टी निकालता था। काम के समय वही गुड़ का पानी बंटता था। पंचायत में एकत्रा हर्जाने की रकम का एक भाग उड़ा ही के संयोजन में खर्च होता था। दक्षिण में धर्मादा प्रथा थी। कहीं-कहीं इस काम के लिए गांव की भूमि का एक हिस्सा दान कर दिया जाता था और उसकी आमदनी सिपर्फ साद निकालने के लिए खर्च की जाती थी। ऐसी भूमि को कोडगे कहा जाता था। राज ओर समाज मिलकर कमर कस लें तो पिफर किसी काम में ढील कैसे आएगी। दक्षिण में तालाबों के रख-रखाव के मामले में राज और समाज का यह तालमेल खूब व्यवस्थित था। राज के खजाने से इस काम के लिए अनुदान मिलता था पर उसी के साथ हर गांव में इस काम के लिए एक अलग खजाना बन जाए, ऐसा भी इंतजाम था। हर गांव में कुछ भूमि, कुछ खेत या खेत का कुछ भाग तालाब की व्यवस्था के लिए अलग रख दिया जाता था। इस पर लगान नहीं लगता था। ऐसी भूमि मान्यम् कहलाती थी। मान्यम् से होने वाली बचत, आय या मिलने वाली पफसल तालाब से जुड़े तरह-तरह के कामों को करने वाले लोगों को दी जाती थी। जितनी तरह के काम, उतनी तरह के मान्यम्। जो काम जहां होना है, वहीं उसका प्रबंध किया जाता था, वहीं उसका खर्च जुटा लिया जाता था। अलौति मान्यम् से श्रमिकों के पारिश्रमिक की व्यवस्था की जाती थी। अणैंकरण मान्यम् पूरे वर्ष भर तालाब की देखरेख करने वालों के लिए था। इसी से उन परिवारों की जीविका भी चलती थी, जो तालाब की पाल पर पशुओं को जाने से रोकते थे। पाल की तरह तालाब के आगौर में भी पशुओं के आने-जाने पर रोक थी। इस काम में भी लोग साल भर लगे रहते थे। उनकी व्यवस्था बंदेला मान्यम् से की जाती थी।
तालाब से जुड़े खेतों में पफसल बुवाई से कटाई तक पशुओं को रोकना एक निश्चित अवधि तक चलने वाला काम था। यह भी बंदेला मान्यम् से पूरा होता था। इसे करने वाले पट्टी कहलाते थे। सिंचाई के समय नहर का डाट खोलना, समय पर पानी पहुंचाना एक अलग जिम्मेदारी थी। इस सेवा को नीरमुनक्क मान्यम् से पूरा किया जाता था। कहीं किसान पानी की बर्बादी तो नहीं कर रहे- इसे देखने वालों का वेतन कुलमकवल मान्यम् से मिलता था। तालाब में कितना पानी आया है, कितने ख्ेातों में क्या-क्या बोया गया है, किसे कितना पानी चाहिए- जैसे प्रश्न नीरघंटी या नीरुकुट्टी हल करते थे। यह पद दक्षिण में सिपर्फ हरिजन परिवार को मिलता था। तालाब का जल स्तर देखकर खेतों में उसके न्यायोचित बंटवारे के बारीक हिसाब-किताब की विलक्षण क्षमता नीरुकुट्टी को विरासत में मिलती थी। आज के कुछ नए समाजशास्त्रिायों का कहना है कि हरिजन परिवार को यह पद स्वार्थवश दिया जाता था। इन परिवारों के पास भूमि नहीं होती थी इसलिए भूमिवानों के खेतों में पानी के किसी भी विवाद में वे निष्पक्ष होकर काम कर सकते थे। यदि सिपर्फ भूमिहीन होना ही योग्यता का आधार था तो पिफर भूमिहीन ब्राह्मण तो सदा मिलते रह सकते थे। लेकिन इस बात को यहीं छोड़ें और पिफर लौटें मान्यम् पर। कई तालाबों का पानी सिंचाई के अलावा पीने के काम भी आता था। ऐसे तालाबों से घरों तक पानी लेकर आने वाले कहारों के लिए उरणी मान्यम् से वेतन जुटाया जाता था। उप्पार और वादी मान्यम् से तालाबों की साधारण टूट-पूफट ठीक की जाती थी। वायक्कल मान्यम् तालाब के अलावा उनसे निकली नहरों की देखभाल में खर्च होता था। पाल से लेकर नहरों तक पर पेड़ लगाए जाते थे और पूरे वर्ष भर उनकी सार-संभाल, कटाई, छंटाई आदि का काम चलता रहता था। यह सारी जिम्मेदारी मानल मान्यम् से पूरी की जाती थी।
खुलगा मान्यम् और पाटुल मान्यम् मरम्मत के अलावा क्षेत्रा में बनने वाले नए तालाबों की खुदाई में होने वाले खर्च संभालते थे। एक तालाब से जुड़े इतने

तरह के काम, इतनी सेवाएं वर्ष भर ठीक से चलती रहें- यह देखना भी एक तरह के काम, इतनी सेवाएं वर्ष भर ठीक से चलती रहें- यह देखना भी एक काम था। किस काम में कितने लोगों को लगाना है, कहां से कुछ को घटना है- यह सारा संयोजन करैमान्यम् से पूरा किया जाता था। इसे कुलम वेट्टु या कण्मोई वेट्टु भी कहते थे। दक्षिण का यह छोटा साधारण-सा वर्णन तालाब और उससे जुड़ी पूरी व्यवस्था की थाह नहीं ले सकता। यह तो अथाह है। ऐसी ही या इससे मिलती-जुलती व्यवस्थाएं सभी हिस्सों में, उत्तर में, पूरब-पश्चिम में भी रही ही होंगी। पर कुछ काम तो गुलामी के उस दौर में टूटे और पिफर विचित्रा आजाद के इस दौर में पूफटे समाज में यह सब बिखर गया। लेकिन गैंगजी कला जैसे लोग इस टूटे-पूफटे समाज में बिखर गई व्यवस्था को अपने ढंग से ठीक करने आते रहे हैं। नाम तो था गंगाजी पर पिफर न जाने कैसे वह गैंगजी हो गया। उनका नाम स्नेह, आत्मीयता के कारण बिगड़ा या घिसा होगा लेकिन उनके शहर को कुछ सौ साल से घेर कर खड़े आठ भव्य तालाब ठीक व्यवस्था के टूटे जाने के बाद धीरे-धीरे आ रही उपेक्षा के कारण घिसने, बिगड़ने लगे थे। अलग-अलग पीढ़ियों ने इन्हें अलग-अलग समय में बनाया था, पर आठ में से छह एक श्रृंखला में बांधे गए थे। इनका रख-रखाव भी उन पीढ़ियों ने श्रृंखला में बंध कर ही किया होगा। सार-संभाल की वह व्यवस्थित कड़ी पिफर कभी टूट गई। इस कड़ी के टूटने की आवाज गैंगजी के कान में कब पड़ी, पता नहीं। पर आज जो बड़े-बूढ़े पफलौदी शहर में हैं, वे गैंगजी की एक ही छवि याद रखे हैं: टूटी चप्पल पहने गैंगजी सुबह से शाम तक इन तालाबों का चक्कर लगाते थे। नहाने वाले घाटों पर, पानी लेने वाले घाटों पर कोई गंदगी पफैलाता दिखे तो उसे पिता जैसी डांट पिलाते थे। कभी वे पाल का तो कभी नेष्टा का निरीक्षण करते। कहां किस तालाब में कैसी मरम्मत चाहिए – इसकी मन ही मन सूची बनाते। इन तालाबों पर आने वाले बच्चों के साथ खुद खेलते और उन्हें तरह-तरह के खेल खिलाते। शहर को तीन तरपफ से घेरे खड़े तालाबों का एक चक्कर लगाने में कोई 3 घंटे लगते हैं। गैंगजी कभी पहले तालाब पर दिखते तो कभी आखिरी पर, कभी सुबह यहां मिलते तो दोपहर वहां और शाम न जाने
कहां। गैंगजी अपने आप तालाबों के रखवाले बन गए थे। वर्ष के अंत में एक समय ऐसा आता जब गैंगजी तालाबों के बदले शहर की गली-गली घूमते दिखते। साथ चलती बच्चों की फौज। हर घर का दरवाजा खुलने पर उन्हें बिना मांगे एक रुपया मिल जाता। बरसों से हरेक घर जानता था कि गैंगजी सिपर्फ एक रुपया मांगते हैं, न कम न ज्यादा। रुपये बटोरने का काम पूरा होते ही वे पूरे शहर के बच्चों को बटोरते। बच्चों के साथ ढेर सारी टोकरियां, तगाड़ियां, फावड़े, कुदाल भी जमा हो जाते। पिफर एक के बाद एक तालाब साफ होने लगता। साद निकाल कर पाल पर जमाई जाती। हरेक तालाब के नेष्टा का कचरा भी इसी तरह साफ किया जाता। एक तगाड़ी मिट्टी-कचरे के बदले हर बच्चे को दुअन्नी इनाम में मिलती। गैंगजी कल्ला कब से यह कर रहे थे- आज किसी को याद नहीं। बस इतना पता है कि यह काम सन् 55-56 तक चलता रहा। पिफर गैंगजी चले गए। शहर को वैसी किसी मृत्यु की याद नहीं। पूरा शहर शामिल था उनकी अंतिम यात्रा में। एक तालाब के नीचे ही बने घाट पर उनका अंतिम संस्कार हुआ। बाद में वहीं उनकी समाधि बनाई गई। जो तालाब बनाते थे, समाज उन्हें संत बना देता था। गैंगजी ने तालाब तो नहीं बनाया था। पहले बने तालाबों की रखवाली की थी। वे भी संत बन गए थे। पफलौदी में तालाबों की सफाई का खेल संत खिलवाता था तो जैसलमेर में यह खेल खुद राजा खेलता था। सभी को पहले से पता रहता था पिफर भी नगर-भर में डिंडोरा पिटता था। राजा की तरपफ से, वर्ष के अंतिम दिन, फाल्गुन कृष्ण चैदस को नगर के सबसे बड़े तालाब घड़सीसर पर ल्हास खेलने का बुलावा है। उस दिन राजा, उनका पूरा परिवार, दरबार, सेना और पूरी प्रजा कुदाल, फावड़े, तगाड़ियां लेकर घड़सीसर पर जमा होती। राजा तालाब की मिट्टी काट कर पहली तगाड़ी भरता और उसे खुद उठाकर पाल पर डालता। बस गाजे-बाजे के साथ ल्हास शुरु। पूरी प्रजा का खाना-पीना दरबार की तरपफ से होता। राजा और प्रजा सबके हाथ मिट्टी में सन जाते। राजा इतने तन्मय हो जाते कि उस दिन उनके कंधे से किसी का भी कंधा टकरा सकता था। जो दरबार में भी सुलभ नहीं, आज वही तालाब के दरवाजे पर, मिट्टी ढोर रहा है। राजा की सुरक्षा की व्यवस्था करने वाले, उनके अंगरक्षक भी मिट्टी काट रहे हैं, मिट्टी डाल रहे हैं। ऐसे ही एक ल्हास में जैसलमेर के राजा तेजसिंह पर हमला हुआ था। वे पाल पर ही मारे गए थे। लेकिन ल्हास खेलना बंद नहीं हुआ। यह चलता रहा, पफैलता रहा। मध्य प्रदेश के भील समाज में भी ल्हास खेला जाता है, गुजरात में भी ल्हास चलती है। वहां यह परंपरा तालाब से आगे बढ़ कर समाज के ऐसे किसी भी काम से जुड़ गई थी, जिसमें सबकी मदद चाहिए। सबके लिए सबकी मदद। इसी परंपरा से तालाब बनते थे, इसी से उनकी देखभाल होती थी। मिट्टी कटती थी, मिट्टी डलती थी समाज का खेल ल्हास के उल्हास से चलता था।


अनुपम मिश्र

लेखक प्रख्यात गांधीवादी विचारक एवं पर्यावरणविद् हैं। ‘आज भी खरे हैं तालाब’ इनकी बहुचर्चित पुस्तक है। संपर्क: गांधी शांति प्रतिष्ठान 223, दीनदयाल उपाध्याय मार्ग नई दिल्ली-110002 ;‘आज भी खरे हैं तालाब’ से साभार.